Submit :
News                      Photos                     Just In                     Debate Topic                     Latest News                    Articles                    Local News                    Blog Posts                     Pictures                    Reviews                    Recipes                    
  
क्या आप में है हीरो?
20 December,2012
क्या आपने कभी सोचा है कि क्या होगा जब आप सुबह-सुबह अखबार खोलें और उसके पहले पन्ने पर आपकी चमकती तस्वीर दिखाई पड़े, सड़क पर निकलें तो सड़कों के किनारे लगे बड़े-बड़े बिलबोर्डों पर आप की तस्वीर हो, फिर वो टीवी हो, बच्चों की किताबें हों या किसी मैगजीन का कवर पेज हर जगह एक हीरो की तरह आप की तस्वीर मौजूद हो। इतना सोचना ही कितना चौंका देने वाला अहसास है ना।

अगर आप सोच रहे हैं कि क्या सच में ऐसा संभव है। तो ग्रीनपीस का जवाब है हां। ग्रीनपीस इंडिया एक नई तरह का वीडियो एप्लीकेशन लांच कर रहा है। आज यानी 20 दिसंबर 2012 को लांच होने जा रहे इस एप्लीकेशन पर आप अपने फेसबुक अकाउंट से लॉग इन कर सकते हैं और बन सकते हैं ‘जंगल के हीरो’। जंगल का हीरो बनने का मतलब है कि आप हमारे जंगलों को तबाह होने से बचा सकते हैं।

 

आज के दौर में, सोशल मीडिया समाज में हो रहे बदलावों को आवाज देने का सबसे बड़ा मंच बन गया है। यही वजह है कि हमने भी अपनी आवाज कोने-कोने तक पहुंचाने के लिए इस वीडियो एप्लीकेशन का इस्तेमाल किया है। एक बार साइन इन करने के बाद आप इस एप्लीकेशन को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कर सकते हैं। 

 

गैरसरकारी संगठन ग्रीनपीस इंडिया मध्य भारत के जंगलों को कोयला खनन से बचाने की लड़ाई लड़ रहा है। इसी मुहिम के तहत इस साल ग्रीनपीस ने तीन महीने तक ‘जंगलिस्तान बचाओ’ नाम का ऑनलाईन हस्ताक्षर अभियान भी चलाया। इस अभियान का उद्देश्य मध्य भारत के घने वनों को कोयला खनन से बचाना है। इसके साथ ही इस अभियान का उद्देश्य देश में तेजी से विलुप्त होते बाघों और मध्य भारत के वनों में रहने वाले वन समुदाय की सुरक्षा सुनश्चित करना है। 

 

ऑन लाईन हस्ताक्षर अभियान के जरिए ग्रीनपीस अभी तक तकरीबन 2,70,000 लोगों के हस्ताक्षर जुटाने में सफल रहा है। ये हस्ताक्षर उन लोगों के हैं जो जंगलों को बचाने की इस मुहिम में इस अभियान के साथ हैं। अक्टूबर में हैदराबाद में हमारी सरकार द्वारा आयोजित किए गए अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता सम्मेलन में ग्रीनपीस के कार्यकर्ता ब्रिकेश सिंह ने लाखों लोगों द्वारा हस्ताक्षर किए गए इस ज्ञापन को प्रधानमंत्री को सौंपने की कोशिश की थी। मगर ब्रिकेश को प्रधानमंत्री से नहीं मिलने दिया गया। इस ज्ञापन को प्रधानमंत्री को सौंपने की ग्रीनपीस की कोशिशें अभी भी जारी हैं। 

 

ग्रीनपीस के कार्यकर्ता ब्रिकेश सिंह कहते हैं, ‘भारत में पहली बार ऐसी कोई एप्लीकेशन आई है जिसका उद्देश्य मनोरंजन के साथ-साथ कोयला खनन से जंगलों की तबाही के बारे में लोगों को जागरुक करना है। मैं उम्मीद करता हूं कि ज्यादा से ज्यादा लोग इसे इस्तेमाल करें क्योंकि हमें एक नहीं अनेकों हीरो चाहिए। जंगलो को बचाने के लिए हम ऑनलाईन के साथ-साथ जमीनी स्तर पर लोगों को जागरुक करने की कोशिश कर रहे हैं।‘ 

 

इस एप्लीकेशन का उद्देश्य सोशल मीडिया के जरिए लोगों को जंगलों को बचाने के लिए जागरुक करना और एक ऐसा माहौल तैयार करना है कि जिससे सरकार पर मध्य भारत के जंगलों को बचाने का दबाव बनाया जा सके।     

 

Ads by Google
Freestone Homes
We have new homes available today! Check out our military specials.
jblnewhomes.com
Freestone Homes
We have new homes available today! Check out our military specials.
jblnewhomes.com
Freestone Homes
We have new homes available today! Check out our military specials.
jblnewhomes.com
Not finding what you are looking for? Search here.