2017  
  2016  
  2015  
  2014  
  2013  
  2012  
  2011  
  2010  
  2009  
  2008  
  2007  
  2006  
प्राइवेट पार्ट काट कर कूरियर करने वाली युवती ने कहा- 13 साल से रेप कर रहा था डॉक्‍टर 'जब बड&
neeraj | 02 Aug 2013

कानपुर। कानपुर देहात के राही पर्यटन गृह में कुछ दिन पहले हुई डॉक्‍टर की हत्‍या और प्राइवेट पार्ट काट कर उनकी पत्‍नी को कूरियर करने के प्रयास के मामले में पुलिस ने एक युवती

कानपुर। कानपुर देहात के राही पर्यटन गृह में कुछ दिन पहले हुई डॉक्‍टर की हत्‍या और प्राइवेट पार्ट काट कर उनकी पत्‍नी को कूरियर करने के प्रयास के मामले में पुलिस ने एक युवती को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि उसने हत्‍या की बात कुबूल कर ली है। लड़की के मुताबिक डाक्टर उसे करीब तेरह सालों से (जब वह हाई स्कूल की छात्रा थी) शारीरिक और मानसिक रूप से परेशान कर रहा था। 

एमए, बीएड और टीईटी पास नीलू  ने इसी से आजिज आकर डॉक्‍टर को मौत के घाट उतार दिया। फिर डॉक्टर का प्राइवेट पार्ट काट कर पत्‍नी को कूरियर कर दिया। हत्या के बाद दीवार पर उसी ने लिखा था कि मनुष्य जब भी प्रकृति से छेड़छाड़ करता है तो प्रकृति स्वयं को संतुलित कर लेती है। उसका आरोप है कि डॉक्टर की पत्नी को भी पति की हरकतों के बारे में जानकारी थी। बताया जाता है कि डॉक्टर के सबंध कई और महिलाओं के साथ भी थे। इनमें उनके परिवार की कई महिलाएं भी शामिल हैं।

 

अमरौधा पीएचसी प्रभारी डॉक्टर सतीश चन्द्रा एक बार नीलू के बीमार पिता को देखने उसके घर आए थे। उसके बाद से ही वह उसका यौन शोषण कर रहे थे। उसके मुताबिक डॉक्‍टर ने उसकी बहन को भी नहीं बख्‍शा था। पुलिस के मुताबिक उसने बताया कि डॉक्‍टर उसे बेहोश करके उसके साथ सेक्‍स किया करता था। इसलिए उसने भी कत्‍ल से पहले डॉक्‍टर को बेहोश कर दिया था। फिर हाथ-पैर बांध कर सर्जिकल नाइफ से उसकी गर्दन काटी। इसके बाद उसका प्राइवेट पार्ट काटा और उसे पैक कर डॉक्‍टर की पत्‍नी को कूरियर कर दिया। डॉक्‍टर को बेहोश करने के लिए वोदका में नशीली गोली मिलाई गई थी। पीड़ित लड़की ने बताया कि वह भगत सिंह और चन्द्रशेखर को अपना आदर्श मानती है और उसे अपने किये पर कोई पछतावा नहीं है। उसके अनुसार अभी एक डॉक्टर और है जिसकी हत्या उसे करनी थी क्योंकि उसने 7 साल की एक बच्ची के साथ दुष्कर्म किया था।

 

कानपुर देहात के चर्चित अमरौधा पीएचसी प्रभारी हत्याकांड से पर्दा उठ गया। पुलिस जिस युवती की तलाश कर रही थी, वह शुक्रवार को खुद ही गोविंदनगर थाने पहुंच गई और हत्या का जुर्म कबूल लिया। बीएड व टीईटी उत्तीर्ण इस युवती का कहना है कि डॉक्टर नशे के इंजेक्शन देकर लंबे समय से उसका शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न कर रहा था। उन्होंने कई युवतियों व महिलाओं की जिंदगी खराब की थी। वह डॉक्टर की हत्या कर उसकी काली करतूतें उजागर करना चाहती थी, इसलिए वारदात का कोई पछतावा नहीं है।

रनियां के पास हाइवे किनारे स्थित राही होटल में रविवार शाम अमरौधा पीएचसी प्रभारी डॉक्टर सतीश चंद्रा की गला रेतकर नृशंस हत्या कर दी गई थी। शव से डॉक्टर का नाजुक अंग गायब मिला था और उनके होंठ पर स्टेपलर की पिन लगी थी। पोस्टमार्टम के दौरान गुप्तांग में 24 सेंटीमीटर की लकड़ी निकली थी। इस लोमहर्षक हत्याकांड की छानबीन में जुटी पुलिस को घटना के समय डॉक्टर के साथ एक युवती होने का पता चला था। वह उनके साथ ही होटल पहुंची थी। इस बीच सोमवार को मामले में नया मोड़ आ गया। गोविंद नगर में सीटीआई चौराहे के पास एक कोरियर कंपनी कार्यालय से डॉक्टर के नाजुक अंग को उनके घर के पते पर भेजने एक युवती पहुंची। कोरियर कंपनी से सूचना मिलने पर पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम मौके पर पहुंची। पता चला यह कोरियर एक युवती द्वारा दिया गया था। पुलिस ने उसकी तलाश में छापेमारी शुरू कर दी। शुक्रवार को कानपुर देहात की क्राइम ब्रांच ने गोविंदपुरी कच्ची बस्ती में युवती के घर पर छापा मारा लेकिन वह वहां से निकलकर खुद ही थाने पहुंच गई।

'जब बड़ी बहन पर बुरी नजर डाली तो खौल उठा खून'

प्रीति के मुताबिक वर्ष 2002 में वह हाई स्कूल की पढ़ाई कर रही थी। इसी दौैरान बड़ी बहन की अचानक तबियत खराब हो गई। उसका इलाज करने डॉ. सतीश चंद्रा घर आए। उन्होंने पिता को बहला फुसलाकर उसे ट्यूशन पढ़ाना शुरू कर दिया। इसके बाद डॉक्टर ने पिता को उसे डॉक्टर बना देने की बात समझायी और अपनी बर्रा स्थित क्लीनिक में नौकरी दे दी। एक दिन डॉक्टर ने नशीला इंजेक्शन देकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाया। इसके बाद यह सिलसिला कई सालों तक चलता रहा। इस बीच उसने बीएड और टीईटी कर लिया। लेकिन डॉक्टर बीमारी की बात कहकर उसे इंजेक्शन लगाता रहा और शारीरिक व मानसिक शोषण करता रहा। इससे उसका मानसिक संतुलन बिगड़ गया। एक बड़े मनोचिकित्सक से इलाज कराया। वर्तमान में स्वरूपनगर के एक डॉक्टर से इलाज चल रहा है। प्रीति लता का आरोप है कि डॉक्टर उसकी बड़ी बहन पर भी बुरी नजर रखे था, इसी से नाराज होकर उसने वारदात अंजाम दिया। बहन को भी नौकरी का झांसा दिया जा रहा था।

इस तरह हत्या की वारदात दी अंजाम

प्रीति के अनुसार वह काफी दिनों से डॉक्टर की हत्या करने की योजना बना रही थी। 15 जुलाई को फोन करके होटल में बुलाया तो डॉक्टर वहां पहुंच गए। होटल के कर्मचारी उन दोनों को जानते थे। तुरंत कमरा बुक हो गया। वह अपने साथ अंग्रेजी शराब की एक बोतल खरीद कर ले गई थी। इसमें अपने इलाज वाली नशे की 20 गोलियां मिला दी थीं। यह शराब पीकर डॉक्टर बेहोश हो गए तो उनके हाथ-पैर बांध दिए। शोर न मचा सकें इसलिए मुंह पर स्टेपलर से पिन लगाकर टेप बांध दिया। गुस्से में पहले डॉक्टर की गर्दन काटी फिर नाजुक अंग काटकर दीवार पर इबारत लिख दी। प्रीति के अनुसार वह डॉक्टर की काली करतूतें समाज में उजागर करना चाहती थी, इसीलिए नाजुक अंग को कोरियर से भेजा। ऐसा करने से सनसनी फैल गई और सबको डॉक्टर के गलत होने का पता चल गया।