2017  
  2016  
  2015  
  2014  
  2013  
  2012  
  2011  
  2010  
  2009  
  2008  
  2007  
  2006  
रियलिटी शो में उत्तर प्रदेश का योगदान !
akshat saxena | 03 Mar 2008

कहते है की अगर आपके अन्दर लगन है और आप में प्रतिभा है तोआपको आपका मुक्कमल जहाँ मिल जाएगा लेकिन शायद उत्तर प्रदेश की प्रतिभाओ की किस्मत में ये दिन देखना लिखा नही है आज जिस तरह से हर टि वी चैनल में रियलिटी शो की एक बहार सी है उसमे हर प्रदेश के बच्चे भाग ले रहे है हमारा उत्तर प्रदेश भी इन सब में पीछे नही है हमारे यह से भी कई प्रतिभाय निकली और उन्होंने उत्तर प्रदेश का नाम भी रोशन किया लेकिन वो सभी प्रतिभाये अन्तिम मुकाबले में हार गई जी हां ये एक कड़वा सच है की उत्तर प्रदेश के जन मानस ने उन्हें सपोर्ट नही किया और इसे हमे स्वीकारना होगा अगर हम बात करे तलेंट हंटशो की तो इस समय सबसे ज्यादा प्रोग्राम सिंगिंग कांटेस्ट के हो रहे है जिसमे भारत के अलावा अन्य देशो के बच्चे भी शिरकत कर रहे है फिर वो जी पर आने वाला प्रोग्राम सा रे गा म पा हो या स्टार पर आने वाला प्रोग्राम वौइस् ऑफ़ इंडिया या सोनी पर आने वाला प्रोग्राम इंडियन आइडल हो सभी कांटेस्ट में हमारे उत्तर प्रदेश की प्रतिभाओ ने भाग लिया फाइनल तक का सफर भी तय किया लेकिन अंत में हुआ वही जिसकी उम्मीद थी हम हार गए क्यों की हमे दुसरे प्रदेश से तो वोट मिले लेकिन हमारे उत्तर प्रदेश से हमे उतने वोट नही मिले जितना हमने उम्मीद की थी ये पहली बार ऐसा नही हुआ है की कोई प्रतिभागी हारा है हर संगीत मुकाबले में उत्तर प्रदेश के प्रतिभागी को हार का स्वाद चखना पड़ा है फिर वो चाहे विनीत , पूनम यादव,हर्षित सक्सेना या अंकिता मिश्रा क्यों न हो ये सभी वो प्रतिभाये थी जो किसी भी मुकाबले को जितने का दम ख़म रखती थी लेकिन उत्तर प्रदेश का का सहयोग न मिल पाने के कारन आज ये प्रतिभाये अपना वजूद नही सथापित नही कर पाई आख़िर ऐसी क्या वजह है की उत्तर प्रदेश का जन मानस अपने प्रदेश की प्रतिभाओ को सहयोग नही प्रदान कर रहा है या फिर यहाँ का जनमानस कही ये तो सोचता की इस से हमारा क्या फायदा होगा शायद हा यही एक सबसे बड़ा कारन है जो यह की प्रतिभाये कही आगे नही बढ़ पा रही है अब आप इस बात से अंदाजा लगा लीजिये की सबसे ज्यादा प्रतिभाये उत्तर प्रदेश की राजधानी से यानी नवाबो के सहर से निकली लेकिन आखिर नवाबो ने अपना नवाबी अंदाज़ दिखा ही दिया और एक भी प्रतिभा अपने प्रदेश का नाम नही रोशन कर पायी देख कर बड़ा अचरज सा लगता है जब जब अन्य प्रदेश की प्रतिभाये अपने प्रदेश में जाती है तो वहा का हर नागरिक उनका स्वागत करने को उत्सुक सा रहता है उन्हें इस बात की खुसी होती है की उनके सहर का नाम उनके प्रदेश का नाम रोशन हो रहा है लेकिन वही हमारे उत्तर प्रदेश में ऐसा कुछ भी आपको नही मिलेगा शर्म आनी चाहिए यह के लोगो को जो अपने प्रदेश की प्रतिभाओ की क़द्र नही कर रहे है आज जब हर प्रदेश अपनी प्रतिभाओ को आगे लाने में सहयोग कर रहा है तो हम उत्तर प्रदेश के लोग क्यों किसी से पीछे रहे हमे भी अपनी प्रदेश की प्रतिभाओ की आगे से आके सहयोग करना चैहिये आज इस दौड़ में एक और नह्ना प्रतिभागी तन्मय चतुर्वेदी नवाबो के शहर से है जिसका भाग्य का फैसला होना है कही ऐसा न हो एक बार फिर उत्तर प्रदेश की उपेक्षा का शिकार ये प्रतिभागी हो जाए और एक और नया नाम उस फेरहिस्त में जुड़ जाए अगर ये सिलसिला ऐसे ही जारी रहा और लोगो की दिलो की दुरिया कम नही हुई तो आगे आने वाले समय में उत्तर प्रदेश की प्रतिभाये अपना वजूद शायद खो देंगी !

Posted By:- Akshat Saxena

Date:- 03-03-08