Submit :
News                      Photos                     Just In                     Debate Topic                     Latest News                    Articles                    Local News                    Blog Posts                     Pictures                    Reviews                    Recipes                    
  
Home>>Vernacular >> News Page
Merinews | Citizen Journalism in Hindi | नागरिक पत्रकार और पत्रकारिता | Page1
आप ही बताईये, अगर किसी को दषकों तक उसकी जरूरतों की तुलना में कम पारिश्रमिक अदा किया जाता रहा है तो वह क्या करेगा? आप मुझे ईमानदारी से बताईये, उस सूरत में आप क्या करेंगे जब आप लाखों लोगों को अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं फिर भी घाटे से भी उबर पाने की स्थिति में नहीं आ पाते हैं? हर विपक्षी दल रेल किराये में वृद्वि होने पर आक्रोष में आ जाता है, पर क्या उनमें से कोई इसे उचित ठहरा पाएगा कि क्यों केंद्र सरकार का यह कदम आम लोगों के लिए बाधक है? अर्थषास्त्र का एक सरल नियम बताता है कि कोई भी उत्पादक इकाई बगैर कुछ अर्जित किए लंबे समय तकसुरक्षित बची नहीं रह सकती। और अगर आप उम्मीद करते हैं कि भारतीय रेलवे घाटा उठाकर आपको सेवाएं प्रदान करती रहे तो एक दिन आप यहां तक कि बैंकिंग, दूरसंचार तथा अन्य सेक्टरों से भी अपेक्षा करने लगेंगे कि वे भी घाटा उठाकर आपको सेवाएं प्रदान करें।
CA Dr Sunil Gupta | Jul 01, 2014

Partners

Not finding what you are looking for? Search here.